वाह रे कैसी है सरकार
कविता

| | वाह रे कैसी है सरकार | |

रोज उखड़ती पटरी है

पर बुलेट ट्रेन तैयार,

वाह रे कैसी है सरकार,

डीजल-पेट्रोल लेने जाओ,

बढे दाम हर बार

वाह रे कैसी है सरकार,

घर से निकलो बाहर देखो

पता चलेगा यार,

वाह रे कैसी है सरकार,

मोदी को सोम को बुध कहे तो

कहते सभी बुधवार

वाह रे कैसी है सरकार,

अब विपक्ष कमजोर पड़ा है,

सुनु नहीं ललकार

वाह रे कैसी है सरकार,

रहे दवा पर मिले नहीं

सब दवा हुआ एक्सपायर

वाह रे कैसी है सरकार,

काम नहीं मिलता हो जब

तब उठा न ले हथियार

वाह रे कैसी है सरकार,

उचित दाम ना काम का मिलता

छोड़ रहा घर बार

वाह रे कैसी है सरकार,

कल नेता झोपड़ियों में थे

महल हुआ तैयार.

वाह रे कैसी है सरकार,

काम करे इक बार मगर

कहे उसे सौ बार

वाह रे कैसी है सरकार,

 

 

पसंद आने पर शेयर करना न भूलें.
कविता
यह समर आज अंतिम होगा

यह समर आज अंतिम होगा ………………………………. यह समर आज अंतिम होगा मत सोच कि यह मद्धिम होगा मिट जाएगा अब सब अंतर हर भय होगा अब छू-मंतर हर दिशा आज संवाद करे हर क्षण हर पल अनुनाद भरे बिछड़े का होगा आज मिलन बिन ब्याही बने नहीं दुल्हन अब नहीं …

कविता
आओ एक दीप जला जाओ!

आओ एक दीप जला जाओ ………………………………. तुम बनो आज अब उद्दीपक तुम हो तो जल पाए दीपक तुम हो तो दूर अंधेरा हो जगमग प्रकाश से डेरा हो मैं तुझे ही दीपक मान रहा तू सदा जले यह ठान रहा तुझमें घी बाती भरता हूँ अब हो बयार ना डरता …

कविता
हिन्दुस्तान (झेलम तट, राजबाग – 07 जून 1969)

|| हिंदुस्तान || (झेलम तट स्थित राजबाग से 07 जून 1969 को) कितना महान प्यारा हिन्दुस्तान है | नागराज कि ऊँचाई देशाभिमान है || कश्मीर भारत वर्ष का शाश्वत ईमान है | इस पर न्योछावर तन-मन अनमोल प्राण है || पावन पवित्र नदियाँ उपवन हरे भरे हैं | भारत के …