बाटुल जी के विधायक मद से मिला एम्बुलेंस

दिनांक 10 मार्च 2018 को अग्रसेन भवन फुसरो में आयोजित एम्बुलेंस उदघाटन समारोह हुआ। बेरमो विधायक श्री योगेश्वर महतो बाटुल जी द्वारा विधायक मद से मारवाड़ी युवा मंच बेरमो शाखा को 1 सुसज्जित वातानुकूलित एम्बुलेंस प्रदान किया गया। जिसका उद्धघाटन नारियल फोड़ कर पंडित संतोष दीक्षित जी द्वारा पूजा अर्चना करवा कर माननीय विधायक जी किये।

मारवाड़ी युवा मंच के कार्यकर्ताओं के समाजसेवा भाव और कार्यशैली से प्रभावित होकर विधायक जी ने यह निर्णय लिया और मंच के आग्रह पर समाज के हित को ध्यान में रखते हुए आज एम्बुलेंस प्रदान करते हुए इसकी चाबी सौंपी. इससे लोगों को आपात काल में और मरीजों को द्रुत गति से तत्काल सेवा व स्वास्थ लाभ प्राप्त हो सकेगा. मंच के लोगों ने यह विश्वास दिलाया कि इस वाहन का सदैव समुचित प्रयोग ही किया जायगा.

जिसमे मुख्य रूप से मारवाड़ी युवा  मंच के अध्यक्ष भवानी शंकर अग्रवाल सचिव पंकज मित्तल कोषाध्यक्ष रोहित मित्तल, सहित दिलीप गोयल, ओम अग्रवाल, मीनू खेतान, अरुण अग्रवाल, राहुल गोयल, मीनू अग्रवाल, शंकर अग्रवाल, दिलीप खेतान सहित समाज के दामोदर अग्रवाल, आनंद गोयल, अशोक राठी, प्रेम राज गोयल, दीपक अग्रवाल, विजय अग्रवाल, सुनील अग्रवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष जगरनाथ राम, प्रखंड अध्यक्ष भाई प्रमोद, ओ.बी.सी. मोर्चा के विनोद महतो, मधुसूदन सिंह, विधायक प्रतिनिधि धनेश्वर महतो, जितेंद्र सिंह सहित कई गणमान्य लोग सम्मिलित थे।

भावपूर्ण श्रद्धांजली : नवल किशोर मित्तल

भावपूर्ण श्रद्धांजली, नवल किशोर मित्तल (07.03.1957-09.03.2018)

फुसरो के एक प्रतिष्ठित व्यवसायी श्री नवल किशोर अग्रवाल जी अब हम सभी के बीच नहीं रहे। 9 मार्च कि शाम 4 बजे उनके सबसे बड़े पुत्र विकास कुमार अग्रवाल ने दामोदर घाट के निकट मुखाग्नि दे कर उन्हें पंच तत्व मे विलीन किया। सभी वर्ग के लोगों के लिए अचानक यह खबर दुखद रहा। बेहद अफसोस होता है जब एक नेक इंसान हमें अचानक छोड़ के चला जाता है, नवल जी, एक सुलझे हुए व्यापारी ही नहीं बल्कि नेक दिल इंसान भी थे।

उन्होंने अपने जीवन काल में बहुत लोगों को मदद दी, हमेशा उन्होंने लोगों को अच्छा परामर्श दिया, हर वक्त उनकी यह सोच थी कि सही राह एवं सही व्यक्ति की पहचान आप को कभी हारने नहीं देगी, और यह सोच उन्हें हमेशा मजबूत बनाये रखी। वे बचपन से आखिरी सांस तक बस कर्म पर भरोसा किये ओर लोगों को प्रेरित किये। 61 वर्षीय इस व्यक्तित्व का इमानदारी एक उसुल था।

फुसरो ई-पत्रीका ऐसे नेक दिल इंसान को श्रद्धांजलि देता है और यह कामना करता है कि उनके परिवार को हिम्मत मिले। इस दुःख की घड़ी मे उनकी पत्नी का साहस समाज की समस्त महिला एवं उनके छोटे पुत्र अंकित ने बढाया। मौके पर मौजूद दिलीप मित्तल, मनोज मित्तल, विजय मित्तल, सुनिल मित्तल, श्यामसुंदर अग्रवाल, रामअवतार अग्रवाल, छितर बंसल, विनय रूंगटा, अजय गोयल, मदन अग्रवाल, नेमिचंद अग्रवाल, पंकज मित्तल, कृष्णा चांडक, पवन अग्रवाल, नविन गोयल, मारवाड़ी युवा मंच के सभी सदस्य, राधेश्याम अग्रवाल, प्रेम बाबु, मिंटू सिंह, राजेन्द्र झा, शंभू वर्णवाल, अभय विश्वकर्मा, महारुर्द सिंह, अशोक पटवारी, जगदीश पटवारी, एवं सैकड़ों लोगों ने कांधा दे कर अंतिम विदाई दी।

गम न करें – १७

बे-मौके सब शरीफ

मतलब यह नहीं कि यह सीधे तौर पर आपके बारे में हैं. मतलब यह है कि यह उन सभी के बारे में है जो मौके पर शरीफ बनने का ढोंग रचते हैं और समय आने पर दूसरों को आगे कर खुद उनका समर्थन अथवा उनके साथ अथवा उनके पीछे चलने को तुरंत तैयार हो जाते हैं. इसलिए बे-मौके सब शरीफ से हमारा तात्पर्य यह है कि मौका आने पर अपनी शराफत दिखाने से कोई भी पीछे नहीं रहना चाहता, पर यह कि सिर्फ ख़बरों में आने के लिए या कि सिर्फ दिखावे के लिए.

आप कथनी और करनी में जितना कम अंतर रख पाते हैं उतने ही आप चरित्रवान होते हैं, यह नहीं कि आप चरित्रवान तो हों पर अवसर आने पर आप खिसक लें. यहाँ मेरा यह सब लिखना आप में से बहुतों को खल रहा होगा पर क्या करें तारीफ बनती भी होगी तो आप इसे मेरा दंभ न समझ ले इसलिए यह साफ करना जरुरी है कि मै इस लेख के माध्यम से आप सब को कुंठित नहीं करना चाहता हूँ. मेरा उद्देश्य बस इतना है कि हम अपने चरित्र के स्तर को उस ऊँचाई तक ले जा सकें जहाँ हम सचमुच ही अपने कथनी और करनी अंतर नहीं कर सकें अर्थात जैसा भी हम सोचें अथवा कहें उसपर चल भी सकें.

थोड़ी देर के लिए यह लेख आपको गप्पबाजी लग सकती है पर आप जरा ध्यान देकर इन बातों को सोचेंगे तो यही पाएंगे कि हम में से कितने ही अवसर आने पर किसी जन-कल्याणकारी कार्यों के लिए समय निकल पाते हैं? अधिकतर का उत्तर यही होगा कि अपने काम से फुर्सत मिले तभी ना. सही भी है, पर यह तभी संभव हो पाता है जब आप समय निकालना चाहें. क्या आप अपने परिवार के लिए समय नहीं निकाल पाते, क्या आप अपने किसी निजी कार्य के लिए समय नहीं निकाल पाते यदि आपका उत्तर हाँ है तो समस्या यह है कि समय आपको निकालना होता है इससे पहले कि समय आपको निकाल दे.

महत्वपूर्ण यह नहीं कि आप किन बातों अथवा कार्यों के लिए समय निकाल पाते हैं अपितु यह कि आप किन बातों अथवा कार्यों के लिए स्वयं को अनुकूल पाते हैं. यदि नहीं तो फिर आप चाहें कि उक्त कार्यों के लिए भी आप समय निकालें. क्योंकि यह आपके ही हाथों में होता है पूर्णरुपेण. आप टालमटोल के शिकार महसूस होते हैं यदि आप चाह कर भी समय प्रबंधन नहीं कर पाते और इसका ठीकरा दूसरों के सर फोड़ने को उद्दत रहते हैं.

आईये इस उधेड़बुन से निकालें जीवन बहुत खुबसूरत है, इसका आनंद लीजिये, नहीं समझ आ रहा हो तो किसी मनोवैज्ञानिक से जरुर मिलें, आप पागल नहीं हैं पर इस स्थिति में अधिक देर रहना आपको जल्द ही उस श्रेणी में ला खड़ा कर सकता है, इसलिए कि कही और अधिक देर न हो जाये, अपने आपको, अपने लिए कुछ ऐसा करें जिससे आपके मन, आत्मा और चित्त को प्रसन्नता होती हो, साथ ही दूसरों की प्रसन्नता का कारण हो ऐसे कृत्यों में स्वयं को उलझाएँ.

इसलिए गम न करें खुश रहें.

25 फरवरी को होगा आजसू फुसरो नगर कार्यकर्ता सम्मेलन

आजसू पार्टी फुसरो नगर व बेरमो प्रखंड समिति की बैठक फुसरो स्थित प्रधान कार्यालय में हुई जिसकी अध्यक्षता नगर अध्यक्ष विनोद बाउरी ने तथा संचालन प्रखंड सचिव सुरेश महतो ने किया। बैठक में सर्व सम्मति से यह निर्णय लिया गया की आगामी 25 फरवरी 2018 को आजसू पार्टी फुसरो नगर व बेरमो प्रखंड के कार्यकर्ता मिलान समारोह सह मिलन कार्यक्रम फुसरो में किया जाएगा।
केंद्रीय मुख्यालय सचिव कमलेश महतो ने कहा कि संगठन को मजबूत करने की आवश्यकता है, और आजसू पार्टी हमेशा जनता की समस्याओ को लेकर आंदोलन करते आ रही है, और आगे भी करेगी। भविष्य में आंदोलन को और धारदार बनाने हेतु फुसरो नगर के सभी वार्डो में बैठक कर संगठन को मजबूत करने की आवश्यकता है।
उन्होंने आगे कहा कि आजसू पार्टी का जनाधार पूरे झारखंड में बढ़ रहा है। यहां युवाओ और महिलाआ को पार्टी में जोड़ने पर बल दिया गया। इस अवसर पर महेंद्र चैधरी, मंजूर अंसारी, बिनोद महतो, प्रमोद कुमार, मनोज पांडेय, संतोष महतो , अनिल झा, बीरू हाड़ी, आदि उपस्थित थे।
 छाया / सूत्र : बेरमो आवाज

डी.ए.वी. ढोरी में मनाई गयी महात्मा एन. डी. ग्रोवर की पुण्य तिथि

डी. ए. वी. पब्लिक स्कूल, ढोरी में मंगलवार को महात्मा एन. डी. ग्रोवर की पुण्य तिथि मनायी गयी। उक्त अवसर पर वैदिक हवन का आयोजन किया गया। तत्पश्चात स्व. ग्रोवर साहब की तस्वीर पर विद्यालय के प्राचार्य, शिक्षक- शिक्षिकाओं तथा छात्र प्रतिनिधियों ने पुष्पांजलि अर्पित की। डा. आर. सी. झा ने उनके व्यक्तित्व एवं सुकृत्यों पर विस्तार पूर्वक प्रकाश डालते हुए बताया कि उन्होंने झारखण्ड सहित 8 राज्यों में लगभग 200 विद्यालयों की स्थापना की।

शिक्षा का अलख जगाने के साथ-साथ आर्यसमाज का विस्तार, प्रचार व प्रसार भी किया। वे गरीबों के मसीहा के रूप में जाने जाते हैं। प्रचार्य श्री एस. कुमार ने बताया कि आर्य समाज की प्रखर विभूति, स्वतंत्रता सेनानी, रसायन शास्त्र के प्रकांड ज्ञाता, तथा जीवट प्रतिभा, कर्मठ व अनुशासित व्यक्तित्व के स्वामी थे स्व. ग्रोवर। 15 नवंबर, 1923 में इशाखेल (पाकिस्तान) पंजाब प्रांत में जन्मे ग्रोवर साहब ने 1957 से आर्य समाज को अपनी सेवाएँ दी। वे हिसार व पंजाब में डी. ए. वी. पब्लिक स्कूल के प्राचार्य रहे। तदन्तर राँची, पटना जोन के क्षेत्रीय निदेशक तथा डी. ए. वी. काॅलेज मैनेजिंग कमिटी के उपाध्यक्ष बने।

उन्होंने अपनी पूरी जिन्दगी समाज के शोषित दलित और उपेक्षित वर्ग की सेवा में लगा दी। ऐसे महामानव ने असंख्य विद्यालय खोलकर समाज में शिक्षा के क्षेत्र में क्रान्तिकारी परिवर्तन लाने का कार्य किया। अंततः उन्होंने 6 फरवरी 2008 को अंतिम साँस लेकर इस मायावी संसार से विदा हो गये। उनके पद्चिह्नों पर चलना हम सबके लिये एक प्रेरणा स्त्रोत है। कार्यक्रम की उद्घोषणा श्री अशोक पाल ने किया। कार्यक्रम की सफलता में श्री एस. के. शर्मा, श्री राकेश कुमार, सुश्री श्वेता, श्री पंकज यादव तथा श्रीमती मौसमी गुप्ता का सराहनीय योगदान रहा।

छाया / सूत्र : बेरमो आवाज

कांग्रेस पार्टी का झंडा लगाओ अभियान

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के निर्देशानुसार फुसरो नगर परिषद् क्षेत्र, वार्ड नंबर 25, 26 (फुसरो डॉ कस्तुरी मुखर्जी अस्पताल मुहल्ला, बेरमो प्रखण्ड रोड़ मुहल्ला, फुसरो मेन रोड बंगाली मुहल्ला,अवध सिनेमा रोड) में कांग्रेस जनों के आवासों व दुकानों पर कांग्रेस पार्टी का झंडा लगाने का कार्यक्रम किया गया।

प्रभारी सच्चिन्द सिंह के द्वारा संचालित किया गया था।कांग्रेस के वरीय नेता महारुद्र नारायण सिंह ने कहा कि कार्यकत्ता ही पार्टी के रीढ़ है, कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के प्रति विश्वास बढ़ रहा है कहा कि कार्यकत्ता ही पार्टी के रीढ़ है, उनके बदौलत ही चुनाव जीता जा सकता है।

मौके पर बेरमो प्रखण्ड अध्यक्ष प्रमोद कुमार सिंह, उत्तम सिंह, परवेज अख्तर, आबिद हुसैन, छेदी नोनिया, जसिम रजा, कृष्ण कुमार चाण्डक, केदार सिंह, रामवली चैहान, ब्रिजेश सिंह, बृजमोहन, शम्भु यादव, मनोज शर्मा, मो.नसीम, बिनोद चैरासिया, शंकर पासवान, दीपक कुमार सिंह,रामाशीष महतो, अखिलेश सिंह, गोपाल गुप्ता, मो. साकिर हुसैन, सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

सूत्र / छाया : बेरमो आवाज

राष्ट्र भक्ति और हम

शीर्षक के माध्यम से अपनी बात कहने की आजादी चाहता हूँ। राष्ट्र और राष्ट्र भक्ति को हम में से हर एक के जीवन में प्रथम स्थान प्राप्त है, इसमें कोई संदेह नहीं है। पर इसे प्रर्दशित करने के अपने-अपने तरीके हैं। जिस तरह एक सैनिक सीमा पर दुश्मनों से लोहा लेते हुए अपनी राष्ट्र भक्ति प्रर्दशित करता है ठीक उसी तरह एक कवि अपनी कविताओं के माध्यम से, लेखक अपने लेखों के माध्यम से, कलाकार, साहित्यकार व इन जैसे ही सभी अपनी-अपनी विधाओं के माध्यम से राष्ट्र के प्रति अपनी सच्ची कृतज्ञता प्रकट करते हैं।

इनमें से किसी के बारे यह आकलन किया जाना कि कौन अपने देश के लिए ज्यादा वफादार अथवा समर्पित है, कौन नहीं, सर्वथा अनुचित है। कौन राष्ट्र भक्ति की दौड़ का स्वर्ण पदक विजेता है, इसके निर्णय की कौन से सर्वमान्य सिद्धांत है, पता नहीं। हमारे देश की भी अजीब विडंबना है। बहुत कम ही ऐसे मौके आते हैं जब एक सही विषय के पक्ष में अथवा सही विषय के लिए लोग आंदोलन करते हैं। समय समय पर कुछ स्व्यंभू कबिलाई किस्म के नेता उभरते हैं और हमारी सोच और विचार की सांझी विरासत के साथ जम कर खिलवाड़ करने की कोशिश करते हैं। इनके आयोजित तमाशे में कुछ भीड़ भी होती है जो इनके अनुसार समर्थक होते हैं। इन्हीं तथाकथित समर्थकों की भीड़ इनके आयोजन की सफलता अथवा असफलता की कहानी बयां करती है।

यह बात जब मैंने अपने एक मुसलमान दोस्त से पूछी तो उसने बेबाकी से अपनी बात कही। उसने कहा कि बंटवारे के समय जब हम में से हर एक के पास यह विकल्प मौजूद था कि हम कहां जाएं, हमने इसी माटी में दफ़न होने का विकल्प चुना। वह भी इसलिए कि हमें अपने भाईयों पर जो हिन्दू थे, खुद से ज्यादा भरोसा था। मुझे उसके कथन में सच्चाई की झलक दिखाई दी। लोग चाहे जितना जोर लगा दें, चंद फिरकापरस्त लोगों की नापाक कोशिश हमारे विश्वास की डोर टूटने नहीं देगी।

फुसरो ओवरब्रिज पर हो सकता था बड़ा हादसा, पलटा ट्रक

राकेश मिश्रा की स्पेशल रिपोर्ट :

बीते देर रात निर्मल महतो चौक से होते हुए डुमरी की ओर जाने के क्रम के 2mm टी.एम.टी. से लदा एक अशोक लीलैंड ट्रक (नंबर RJ-19-GF-2087) जैसे ही ओवरब्रिज पर चढ़ा और चढ़ते ही मुड़ा, वह पलट गया और सरिया के कुछ छल्ले हाई मास्ट लाइट के पास जा गिरे, ट्रक तो लटक गया पर नीचे भीड़ नहीं थी इसलिए बस एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया.

समाचार लिखे जाने तक दामोदर नदी हिंदुस्तान पुल से लेकर पूरे नया रोड और उधर ओवरब्रिज पार चपरी तक भयंकर जाम की स्थिति बनी है प्रशासन की मुस्तैदी बनी है और एम्बुलेंस को रास्ता दिया जा रहा है. क्रेन की सहायता से एक-एक कर सरिया के छल्लों को नीचे किया जा रहा है, ट्रक को हटाने की कवायद जारी है, पर ट्राफिक खुलने कुछ वक्त लग सकता है.

हो सकता था बड़ा हादसा. फुसरो का यह इलाका काफी भीड़-भाड़ वाला होता है, प्रायः ही यहाँ से बड़ी-बड़ी गाड़ियाँ और भारी वाहनों का आवागमन बदस्तूर जारी रहता है, ऐसे में कभी भी इस प्रकार का हादसा हो सकता है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है. चढ़ाई पर तेजी से बिना अपना पिकअप खोये चढ़ने के क्रम में और तेजी में मुड़ने के कारण हुआ यह हादसा.

शुरू से ही इस ओवरब्रिज की इंजीनियरिंग को लेकर सवाल उठते रहे हैं, कि इसकी ड्रापिंग सही नहीं है. पर हमारे कंस्ट्रक्शन करने वाली कंपनी को इससे क्या मतलब जैसे-तैसे मार्च तक कोटा पूरा करना था इसलिए आनन फानन में ओवरब्रिज पूरा कर डाला. भीड़-भाड़ होने से बड़ी गाड़ियों की रफ्तार काम ही रहती है तो अब तक आसानी से काम चलता आया. पर इन दिनों इस मार्ग पर आवाजाही बढ़ी है. यह सड़क N.H.-2 G.T. Road से जुड़ी रहने के कारण इस पर अवागमन बहुत ही ज्यादा है.

पत्रकार संगठन को मजबूती देने का प्रयास तेज, 3 फरवरी से सदस्यता अभियान शुरू

दिनांक 31-01-2018 को करगली स्थित अतिथिगृह में दी प्रेस क्लब बोकारो के प्रतिनिधियो के संग बेरमों क्षेत्र के विभिन्न अखबार व चैनल से जुडे प्रमुख प्रतिनिधियो की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। जिसकी अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार राकेश वर्मा ने की। यहां संगठन के निर्वाचन समिति के प्रमुख रामप्रवेश सिंह, शंभू पाठक और विल्सन फ्रांसिस ने उपस्थित पत्रकारो को जानकारी देते हुए बताया कि जिला में कलमकारों का एक सशक्त संगठन बने। इसको लेकर एक कारगर पहल अनुभवी और युवा वर्ग के प्रेस प्रतिनिधियो द्वारा किया जा रहा है। संगठन का बेरमो क्षेत्र के सदस्यता अभियान को लेकर विजय कुमार सिंह और मनोज शर्मा को सर्वसम्मति से प्रभारी नियुक्त किया गया है।

इस अवसर पर पत्रकार ज्ञानेंदू जयपुरियार ने कहा कि बेरमो कोयलांचल के पत्रकार साथियो का सदैव जिला के गठित किये जाने वाले विभिन्न प्रकार की पत्रकार समितियो में अहम भागीदारी रही है। दी प्रेस क्लब बोकारो की नवगठित किये गये समिति के सदस्यो का अनुरोध है कि पूर्व की तरह इसमें सकरात्मक भागीदारी हो। पत्रकार संजीव कुमार ने बोकारो में सभी कलमकारो को एक मंच में लाये जाने वाले प्रयासो से उपस्थित सदस्यो को अवगत कराया।

पत्रकार राकेश वर्मा ने कहा कि बोकारो जिला में पत्रकारो का एक मजबूत संगठन हो। यह सबकी आंतरिक इच्छा है। लेकिन दुखद परिस्थिति है कि सामूहिक रुप से एकता नहीं बन पा रहा है। उन्होने कहा कि 1 फरवरी को अन्य पक्ष के सदस्यो से बातचीत कर एकजुट करने का प्रयास करेगें। यहां सर्व सम्मति से निर्णय हुआ कि अगामी 3 फरवरी को अफसर्स क्लब कारगली में बेरमों अनुमंडल से जुडे पत्रकारो की सामूहिक बैठक कर सदस्यता अभियान की शुरुआत की जायेगी।

साथ ही नवगठित समिति में संपूर्ण क्षेत्र की  भागीदारी कैसे हो, इसके लिए सर्वसम्मति बनाने का प्रयास किया जायेगा। इस अवसर पर बोकारो से बसंत मधुकर, मनोज विशाल, मृत्युंजय कुमार, संजय कुमार, अजय कुमार सिंह, सिद्धार्थ कुमार, विनय कुमार सिंह, अनिल पाठक, रघुबीर प्रसाद, सुभाष ठाकुर, मोहित नंदन सहित कई पत्रकार बन्धु प्रमुख रुप से उपस्थित थे।

सूत्र / छाया : बेरमो आवाज

सी.सी.एल. से सेवानिवृत कर्मियों को दी गई विदाई

सी.सी.एल. बी.एंड के. प्रक्षेत्र के करगली आॅफिसर्स क्लब में बी.एंड के. प्रक्षेत्र से 37 व सी.सी.एल. ढोरी प्रक्षेत्र के ढोरी जी.एम. सभागार में 19 सेवानिवृत कर्मियों को सम्मान समारोह आयोजित कर विदाई दी गई। बी.एंड के. में ए.एफ.एम. ए.के. बह्मचारी ने सभी सेवानिवृत कर्मियों को माला पहनाकर एवं उपहार देकर सम्मानित करने के साथ-साथ सभी की उज्जवल भविष्य की कामना की।

उक्त अवसर पर एक ओर जहाँ बी. एंड के. प्रक्षेत्र के विदाई समारोह में एस.ओ.पी. प्रतुल कुमार, सी.एस.आर. अधिकारी निखिल अखोरी, यूनियन प्रतिनिधि गौरख प्रसाद सिंहा, गजेन्द्र प्रसाद सिंह, झब्बू पांडेय, जे.के. सिंह, नान्हू राम आदि मुख्य रुप से उपस्थित थे, वही दूसरी ओर ऐसे ही समारोह में ढोरी जी.एम. सभागार में एस.ओ.पी. विजय कुमार, ने सभी सेवानिवृत कर्मियों को माला पहनाकर व उपहार देकर सम्मानित किया. एवं कहा कि सभी सेवानिवृत कर्मी बेदाग व निरोग हैं, यह इनकी बड़ी उपलब्धी है। मौके पर प्रशासनिक पदाधिकारी एस.के. सिंह, संतोष मंडल, अरुण कुमार, बहादुर मुंडा, हरेन्द्र सिंह, आदि लोग उपस्थित थे।

सूत्र / छाया : बेरमो आवाज