सहकर्मियों में परस्पर निकटता से बढ़ता है आपसी सौहार्द : अनपति देवी स्कूल वनभोज कार्यक्रम पर बोले सचिव

दिनांक 6 जनवरी 2018 को अनपति देवी सरस्वती शिशु विद्या मंदिर फुसरो में विद्यालय समिति द्वारा पूरे विद्यालय परिवार के साथ विद्यालय परिसर में ही वनभोज का आयोजन किया गया. सभी ने स्वादिष्ट व्यंजनों का स्वाद लिया और विभिन्न विषयों एवं विद्यालय में और भी बेहतर सेवाएं प्रदान करने और विद्यार्थियों के विकास पर चर्चा हुई.

कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए विद्यालय समिति के सचिव कृष्ण कुमार चांडक ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से जहाँ एक ओर समाज में प्रेम-भाव का उत्कृष्ट सन्देश जाता है वही दूसरी ओर सहकर्मियों में परस्पर निकटता से आपसी सौहार्द भी बढ़ता है. आचार्यों एवं कर्मचारियों के मध्य म्यूजिकल चेयर प्रतियोगिता का आयोजन भी हुआ, जिसमे आचार्यगणों की ओर से रंजू झा प्रथम, द्वितीय रीना सिंह तथा तृतीय स्थान पर सविता सिंह रहीं. कर्मचारियों में शांति देवी प्रथम, मालती देवी द्वितीय तथा चानो देवी तृतीय रहीं.

इसमे यह भी निर्णय लिया गया कि आगामी सत्र में LKG व UKG  में सिर्फ बहनों के लिए नामांकन शुल्क निःशुल्क रखा जायगा. आगे यह सूचना भी दी गयी कि ठंढ अधिक बढ़ जाने के कारण जिला शिक्षा पदाधिकारी बोकारो के ज्ञापांक 75 दिनांक 05-01-2018 के आलोक में आगामी सोमवार से विद्यालय का पठन-पाठन कार्य पूर्वाह्न 9 बजे से अपराह्न 3 बजे तक होगा.

इस अवसर पर मुख्य रूप से समिति के सचिव कृष्ण कुमार चांडक, सह सचिव जवाहर यादव, उपाध्यक्ष विरेन्द्र जैन, रोहित मित्तल, दयानंद वर्णवाल, प्रेम कुमार सोनी, विद्यालय के प्राचार्य अशोक कुमार सिंह सहित आचार्य सुनील चंद्र झा, कामदेव सिंह, नवल किशोर सिंह, जगदीश महतो, उमाशंकर सिंह, उपेंद्र सिंह, राम कुमार पाठक, सविता सिंह, रंजू झा, इंदिरा सिंह, निभा सिंहा, किशोर कुमार , जीतेन्द्र चौधरी, राकेश सिंह, प्रियमला, कविता, प्रभुनाथ मिश्रा, साधन चंद्र धर, शिवनंदन, सुरेश, मालती, शांति सहित पूरा विद्यालय परिवार उपस्थित थे.

अनपति देवी विद्यालय में कानूनी शिक्षा शिविर का आयोजन

आज दिनांक 11 दिसम्बर दिन सोमवार को अनपति देवी सरस्वती विद्या मंदिर के विशाल कक्ष में कक्षा षष्ठ से अष्टम तक के भैया-बहनों की जागरूकता एवं ज्ञानवर्धन के लिए कानूनी शिक्षा शिविर का आयोजन किया गया. जिला सिविल कोर्ट के लीगल एडवाईजर श्री शिव कुमार रविदास एवं पी.एल.वी. पदाधिकारी श्री विष्णु मिश्रा ने बच्चों को विस्तृत जानकारी दी.

अधिकारियों ने शिक्षा का अधिकार विषय (Right to Education) की चर्चा करते हुए बच्चों को बताया कि 6 से 14 साल के बच्चों को निःशुल्क शिक्षा का संवैधानिक अधिकार प्राप्त है. अधिकारियों ने शिक्षा से भटके युवाओं की सूचना भी सम्बंधित केंद्र को भेजने का सुझाव दिया, साथ ही समाज में व्याप्त कुरीतियों यथा कम उम्र में विवाह, जातिगत भेदभाव, बाल मजदूरी, बुजुर्ग व्यक्तियों के भरण पोषण से उनके बच्चों के इंकार आदि के सम्बन्ध में भी विस्तृत चर्चा हुई, तथा बच्चों से इसकी सूचना जिला विधि सेवा केंद्र को प्रेषित करने का सुझाव दिया गया.

अधिकारियों द्वारा भैया-बहिनों को किसी भी अपराधी गतिविधियों से दूर रहने का सुझाव दिया गया, एवं ऐसे बच्चे जो किसी भी प्रकार की अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त है, इसकी सूचना भेजने को कहा गया. इस चर्चा में भैया-बहिनों का अधिकारियों को भरपूर सहयोग मिला. प्रधानाचार्य श्री अशोक कुमार सिंह ने पदाधिकारियों को धन्यवाद दिया एवं इस कार्य के लिए विद्यालय के चयन पर प्रसन्नता व्यक्त की. इस अवसर पर विद्यालय के आचार्य सुनील चन्द्र झा, नवल किशोर सिंह, कामदेव सिंह, उपेन्द्र कुमार एवं इंदिरा सिंह आदि उपस्थित थे.

इस प्रकार की परिचर्चा/जागरूकता शिविरों का आयोजन कर विद्यालय ने जहाँ बच्चों के प्रति अपनी नैतिक उत्तरदायित्व का निर्वहन किया है वहीं दूसरी ओर समाज के अन्य संस्थानों को एक सन्देश भी दिया कि आज के वर्तमान समय में अपने नैतिक व सामाजिक उत्तरदायित्व के प्रति वे भी सजग हों और ऐसे ही कार्यक्रमों के माध्यम से अधिक से अधिक जागरूकता फैलाएं जिससे हमारे समाज का हर वर्ग लाभान्वित हो सके.