प्रथम वर्ष : अंक – 2
सितम्बर – 2017

विगत अद्यतन : 25-09-2017 | 07:17 बजे

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी,
तृतीयं चन्द्रघंटेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्,
पंचमं स्क्न्दमातेति 
षष्ठं कात्यायनीति च,
सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम् ,
नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः

|| आप सभी को नवरात्री की शुभकामनायें ||


सुस्वागतम!

बंधुवर,
आपसे आग्रह है की आप अपने शहर के इस एकमात्र वेब-पोर्टल पर स्वयं को रजिस्टर कर अपने व अपने व्यवसाय से सम्बंधित कोई भी जानकारी जिसे आप शेयर करना चाहें, अवश्य करें. यह फुसरो से सम्बंधित हर प्रकार की जानकारी को एक जगह इकठ्ठा कर ऑनलाइन उपलब्ध करने का प्रयास है, अतः आपका सहयोग अपेक्षित है. यह सेवा पूर्ण-रूप से निःशुल्क है व सदैव निःशुल्क रहेगी. आप भी अपनी मौलिक रचनाये हमें भेज सकते हैं किसी भी रूप में हस्त लिखित स्कैन अथवा फोटो लिया हुआ, आप स्वयं भी पोस्ट कर सकते हैं.
हमें ई-मेल करें: phusrothecity@gmail.com
हमें whatsapp भी कर सकते हैं. 9934109077
Team:-phusro.in

नौकरियों में आरक्षण का फादर इन डिसेंडेंट आऊट मॉडल : एक विकल्प

नौकरियों में आरक्षण का उद्देश्य सामाजिक एवं शैक्षणिक दृष्टि से कमजोर तबकों के साथ-साथ अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग के समूहों को समुन्नत एवं सुदृढ़ करना रहा है. परन्तु भारत में वर्तमान आरक्षण प्रणाली से आरक्षण प्राप्त परिवार अधिक समुन्नत एवं सुदृढ़ हो जाते हैं तो वहीँ दूसरी ओर कई ऐसा परिवार...

बूटपालिश

एक गरीब लड़का था। चौदह साल की उम्र होते-होते उसके ऊपर मां-बाप का स्नेहिल साया उठ चुका था। अब वह और उसकी छोटी बहन किसी तरह अपनी जिंदगी आस-पड़ोस के लोगों की कृपा पर गुजारने को मजबूर हो गये थे। गांव का माहौल था। कोई शहरी संस्कृति थी नहीं। जीवनयापन...

तेजपत्ता

तेजपत्ता, जी साहब! यह वो चीज़ है जो आपके भोजन के लिए बनाये गए व्यंजनों में जब शामिल होता है तो उसका स्वाद बढ़ा देता है, पर सबसे पहले थाली में से इसे ही बाहर कर दिया जाता है. यह इसका दुर्भाग्य है या यह सीधा प्राकृतिक व्यवस्था की भेंट...

नक्सलियों को मुख्यधारा में जोड़ती एक अपील

पुकार ! चिंगारी से लगी आग को, आज बुझाने आया हूँ, मानो या फिर ना मानो इक बात सुझाने आया हूँ| त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन के बाद अब सरकारी तंत्र में आवश्यक बदलाव नजर आने लगा है. छोटे-छोटे झगडे और आपसी विवाद अब स्थानीय स्तर पर सुलझाने का सफल प्रयास किया...

सुदर्शन

सुदर्शन अब लगा सुदर्शन को भी यह, हो कैसे अर्जुन की ही जय. रण हो तो कौरब का हो क्षय, दिनकर पर आये भले वलय. पर वलय नहीं यह स्थायी, हो जाती इसकी भरपाई. क्षय होगा अब जब कौरब का, हर शय होगा तब सौरभ का. क्यों पड़ा धनुर्धर माया...

खिचड़ी

खिचड़ी, जी हाँ, नाम सुनकर कई तो मुंह ही बना डालते हैं, खास कर वो जिन्हें सिर्फ उदर शांति से मतलब नहीं बल्कि जिह्वा पर स्वाद के कमल खिलाने भर से होता है, कुछ के मुंह का स्वाद ही बिगड़ जाता है तो कुछ खास पकाने के शौक़ीन उसमें विभिन्न...

आहत पंचकुला की अपील

आहत पंचकुला की अपील मैं पूछूं जो सेवक प्रधान , क्या नहीं बचा इसका निदान. क्यों जुबां पे बंद पड़ा ताला, कहने को देश का रखवाला. मन की बात क्यों करते हो, जब "डेरा" से तुम डरते हो. "डेरा" तुम पर क्यों भारी है, बस कहने को तैयारी है. कुछ...

स्वरोजगार हेतु ऋण

दिनांक 25-08-2017 को नगर परिषद् फुसरो के सभा कक्ष में दीनदयाल अन्त्योदय राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (DAY-NULM) अंतर्गत स्वरोजगार हेतु कुल 59 आवेदन प्राप्त हुए. इस हेतु टास्क फाॅर्स की बैठक में कुल 59 आवेदनों में से 49 आवेदनों को ऋण प्रदान करने हेतु चयनित किया गया क्योकि 9 आवेदनकर्ता...