पिता

कौन हो तुम?
पिता . . . .
मासूम की किलकारी से
खुश होता . .
उसकी हंसी पर
प्यार लुटाता . .
क्रंदन पर
अचानक जागता पिता . .
उसकी अठखेलियों पर
जीवन की सच्चाइयाँ
बतलाता . .
सजग करता पिता . .
शरारत में कभी
साथ हो लेता
कभे समझाता पिता . .
पीढ़ियों की खाइयों को
पाटता
कभी उसको पटाता कभी
खुद पटता पिता . . .