महागौरी – ८

: : महागौरी : :
-: माता के अष्टम रूप के उपासना का मन्त्र :-
श्वेत वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बर धरा शुचि:,
महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा.

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है.  दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है.  इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है.  इनकी उपासना से भक्तों को सभी कल्मष धुल जाते हैं, पूर्वसंचित पाप भी विनष्ट हो जाते हैं.  नवरात्र के आठवें दिन आठवीं दुर्गा महागौरी की पूजा-अर्चना और स्थापना की जाती है.  अपनी तपस्या के द्वारा इन्होंने गौर वर्ण प्राप्त किया था.  अतः इन्हें उज्जवल स्वरूप की महागौरी धन , ऐश्वर्य , पदायिनी , चैतन्यमयी , त्रैलोक्य पूज्य मंगला शारिरिक , मानसिक और सांसारिक ताप का हरण करने वाली माता महागौरी का नाम दिया गया है.

उत्पत्ति के समय यह आठ वर्ष की आयु की होने के कारण नवरात्र के आठवें दिन पूजने से सदा सुख और शान्ति देती है.  अपने भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप है.  इसीलिए इसके भक्त अष्टमी के दिन कन्याओं का पूजन और सम्मान करते हुए महागौरी की कृपा प्राप्त करते हैं.  यह धन-वैभव और सुख-शान्ति की अधिष्ठात्री देवी है.  सांसारिक रूप में इसका स्वरूप बहुत ही उज्जवल , कोमल , सफेदवर्ण तथा सफेद वस्त्रधारी चतुर्भुज युक्त एक हाथ में त्रिशूल , दूसरे हाथ में डमरू लिए हुए गायन संगीत की प्रिय देवी है , जो सफेद वृषभ यानि बैल पर सवार है.

फुसरो सिटी

फुसरो शहर की प्रथम व एकमात्र ई-पत्रिका, जिस पर आप अपने शहर से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारियों को प्राप्त कर सकते हैं. आज ही अपने व अपने व्यवसाय/कार्य से सम्बंधित जानकारी स्वयं अपलोड करें. यह सेवा पूर्ण-रूप से निःशुल्क है व सदैव निःशुल्क रहेगी. यदि आप स्वयं अपलोड करने में अक्षम है तो अपनी जानकारियों को हमें ई-मेल करें: phusrothecity@gmail.com, आप हमें whatsapp भी कर सकते हैं. 9934109077
Team:-phusro.in

You May Also Like