कालरात्रि – ७

: : कालरात्रि : :
-: माता के सप्तम रूप के उपासना का मन्त्र :-
एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता,
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी.
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा,
वर्धन्मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी.

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं.  दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है.  इस दिन साधक का मन ‘सहस्रार’ चक्र में स्थित रहता है.  इसके लिए ब्रह्मांड की समस्त सिद्धियों का द्वार खुलने लगता है.  अपने महाविनाशक गुणों से शत्रु एवं दुष्ट लोगों का संहार करने वाली सातवीं दुर्गा का नाम कालरात्रि है.  विनाशिका होने के कारण इनका नाम कालरात्रि पड़ गया.  आकृति और सांसारिक स्वरूप में यह कालिका का अवतार यानी काले रंग रूप की अपनी विशाल केश राशि को फैलाकर चार भुजाओं वाली दुर्गा है , जो वर्ण और वेश में अर्द्धनारीश्वर शिव की तांडव मुद्रा में नजर आती है.

इनकी आंखों से अग्नि की वर्षा होती है.  एक हाथ से शत्रुओं की गर्दन पकड़कर दूसरे हाथ में खड़क तलवार से युद्ध स्थल में उनका नाश करने वाली कालरात्रि सचमुच ही अपने विकट रूप में नजर आती है.  इसकी सवारी गंधर्व यानी गधा है , जो समस्त जीवजंतुओं में सबसे अधिक परिश्रमी और निर्भय होकर अपनी अधिष्ठात्री देवी कालरात्रि को लेकर इस संसार में विचरण कर रहा है.  कालरात्रि की पूजा नवरात्र के सातवें दिन की जाती है.  इसे कराली भयंकरी कृष्णा और काली माता का स्वरूप भी प्रदान है , लेकिन भक्तों पर उनकी असीम कृपा रहती है और उन्हें वह हर तरफ से रक्षा ही प्रदान करती है.

फुसरो सिटी

फुसरो शहर की प्रथम व एकमात्र ई-पत्रिका, जिस पर आप अपने शहर से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारियों को प्राप्त कर सकते हैं. आज ही अपने व अपने व्यवसाय/कार्य से सम्बंधित जानकारी स्वयं अपलोड करें. यह सेवा पूर्ण-रूप से निःशुल्क है व सदैव निःशुल्क रहेगी. यदि आप स्वयं अपलोड करने में अक्षम है तो अपनी जानकारियों को हमें ई-मेल करें: phusrothecity@gmail.com, आप हमें whatsapp भी कर सकते हैं. 9934109077
Team:-phusro.in

You May Also Like