कालरात्रि
नवरात्री

: : कालरात्रि : :
-: माता के सप्तम रूप के उपासना का मन्त्र :-
एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता,
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी.
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टक भूषणा,
वर्धन्मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी.

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं.  दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है.  इस दिन साधक का मन ‘सहस्रार’ चक्र में स्थित रहता है.  इसके लिए ब्रह्मांड की समस्त सिद्धियों का द्वार खुलने लगता है.  अपने महाविनाशक गुणों से शत्रु एवं दुष्ट लोगों का संहार करने वाली सातवीं दुर्गा का नाम कालरात्रि है.  विनाशिका होने के कारण इनका नाम कालरात्रि पड़ गया.  आकृति और सांसारिक स्वरूप में यह कालिका का अवतार यानी काले रंग रूप की अपनी विशाल केश राशि को फैलाकर चार भुजाओं वाली दुर्गा है , जो वर्ण और वेश में अर्द्धनारीश्वर शिव की तांडव मुद्रा में नजर आती है.

इनकी आंखों से अग्नि की वर्षा होती है.  एक हाथ से शत्रुओं की गर्दन पकड़कर दूसरे हाथ में खड़क तलवार से युद्ध स्थल में उनका नाश करने वाली कालरात्रि सचमुच ही अपने विकट रूप में नजर आती है.  इसकी सवारी गंधर्व यानी गधा है , जो समस्त जीवजंतुओं में सबसे अधिक परिश्रमी और निर्भय होकर अपनी अधिष्ठात्री देवी कालरात्रि को लेकर इस संसार में विचरण कर रहा है.  कालरात्रि की पूजा नवरात्र के सातवें दिन की जाती है.  इसे कराली भयंकरी कृष्णा और काली माता का स्वरूप भी प्रदान है , लेकिन भक्तों पर उनकी असीम कृपा रहती है और उन्हें वह हर तरफ से रक्षा ही प्रदान करती है.

पसंद आने पर शेयर करना न भूलें.
फुसरो दुर्गा-मण्डप में माता की झांकी
नवरात्री
2
दशहरा – १०

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी, तृतीयं चन्द्रघंटेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्, पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च, सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्, नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः || आप सभी को विजयादशमी  की शुभकामनायें || आप सभी को टीम phusro.in की तरफ से दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें, माँ आप सबकी मनोकामनाओं को पूरा करें. आज …

सिद्धिदात्री
नवरात्री
सिद्धिदात्री – ९

: : सिद्धिदात्री : : -: माता के सप्तम रूप के उपासना का मन्त्र :- सिद्धगन्धर्वयक्षाघैरसुरैरमरैरपि, सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी. माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं.  ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं.  नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है.  इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान …

महागौरी
नवरात्री
महागौरी – ८

: : महागौरी : : -: माता के अष्टम रूप के उपासना का मन्त्र :- श्वेत वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बर धरा शुचि:, महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा. माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है.  दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है.  इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है.  इनकी उपासना …