स्कन्दमाता
नवरात्री
1

: : स्कन्दमाता : :
-: माता के पंचम रूप के
उपासना का मन्त्र :-
सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया,
शुभदास्तु सदा देवी स्कंदमाता यशस्विनी.

नवरात्रि का पाँचवाँ दिन स्कंदमाता की उपासना का दिन होता है.  मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता परम सुखदायी हैं.  माँ अपने भक्तों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति करती हैं.  श्रुति और समृद्धि से युक्त छान्दोग्य उपनिषद के प्रवर्तक सनत्कुमार की माता भगवती का नाम स्कन्द है.  अतः उनकी माता होने से कल्याणकारी शक्ति की अधिष्ठात्री देवी को पांचवीं दुर्गा स्कन्दमाता के रूप में पूजा जाता है.

नवरात्रि में इसकी पूजा-अर्चना का विशेष विधान है.  अपने सांसारिक स्वरूप में यह देवी सिंह की सवारी पर विराजमान है तथा चतुर्भज इस दुर्गा का स्वरूप दोनों हाथों में कमलदल लिए हुए और एक हाथ से अपनी गोद में ब्रह्मस्वरूप सनत्कुमार को थामे हुए है.  यह दुर्गा समस्त ज्ञान-विज्ञान , धर्म-कर्म और कृषि उद्योग सहित पंच आवरणों से समाहित विद्यावाहिनी दुर्गा भी कहलाती है.

पसंद आने पर शेयर करना न भूलें.
  • Sanjeev Raut

    Jai mata ki

फुसरो दुर्गा-मण्डप में माता की झांकी
नवरात्री
2
दशहरा – १०

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी, तृतीयं चन्द्रघंटेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्, पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च, सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्, नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः || आप सभी को विजयादशमी  की शुभकामनायें || आप सभी को टीम phusro.in की तरफ से दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें, माँ आप सबकी मनोकामनाओं को पूरा करें. आज …

सिद्धिदात्री
नवरात्री
सिद्धिदात्री – ९

: : सिद्धिदात्री : : -: माता के सप्तम रूप के उपासना का मन्त्र :- सिद्धगन्धर्वयक्षाघैरसुरैरमरैरपि, सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी. माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं.  ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं.  नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है.  इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान …

महागौरी
नवरात्री
महागौरी – ८

: : महागौरी : : -: माता के अष्टम रूप के उपासना का मन्त्र :- श्वेत वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बर धरा शुचि:, महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा. माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है.  दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है.  इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है.  इनकी उपासना …