या देवी सर्वभूतेषु प्रकृति रूपेण संस्थिता, नमस्तसयै, नमस्तसयै, नमस्तसयै नमो नम:
नवरात्री

-: : शैलपुत्री : :-
-: मां के प्रथम रूप के उपासना का मंत्र :-
|| या देवी सर्वभूतेषु प्रकृति रूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नम: ||

दुर्गाजी के पहले रूप को ‘शैलपुत्री’ के नाम से जाना जाता है.  शैलराज हिमालय की कन्या होने के कारण नवदुर्गा का सर्वप्रथम स्वरूप ‘शैलपुत्री’ कहलाया है.   ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं. नवरात्र-पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है. पर्वतराज हिमालय की पुत्री पार्वती के स्वरूप में साक्षात शैलपुत्री की पूजा देवी के मंडपों में प्रथम नवरात्र के दिन होती है.

इनके एक हाथ में त्रिशूल , दूसरे हाथ में कमल का पुष्प है.  यह नंदी नामक वृषभ पर सवार संपूर्ण हिमालय पर विराजमान है.  यह वृषभ वाहन शिवा का ही स्वरूप है.  घोर तपस्चर्या करने वाली शैलपुत्री समस्त वन्य जीव जंतुओं की रक्षक भी हैं.  शैलपुत्री के अधीन वे समस्त भक्तगण आते हैं , जो योग, साधना, तप और अनुष्ठान के लिए पर्वतराज हिमालय की शरण लेते हैं.

जम्मू – कश्मीर से लेकर हिमांचल पूर्वांचल नेपाल और पूर्वोत्तर पर्वतों में शैलपुत्री का वर्चस्व रहता है.  आज भी भारत के उत्तरी प्रांतों में जहां-जहां भी हल्की और दुर्गम स्थलों में आबादी है , वहां पर शैलपुत्री के मंदिरों की पहले स्थापना की जाती है , उसके बाद वह स्थान हमेशा के लिए सुरक्षित मान लिया जाता है. कुछ अंतराल के बाद बीहड़ से बीहड़ स्थान भी शैलपुत्री की स्थापना के बाद एक सम्पन्न स्थल बल जाता है.

विशेष : इस वर्ष आश्विन मास के शुक्ल पक्ष में अर्थात शारदीय नवरात्र का शुभ मुहूर्त दिनांक 21 सितम्बर 2017 दिन बृहस्पतिवार को प्रातः 6 बजकर 3 मिनट से 8 बजकर 22 मिनट तक रहेगा तथा अभिजीत मुर्हूत 11.36 से 12.24 बजे तक रहेगा.

पसंद आने पर शेयर करना न भूलें.
फुसरो दुर्गा-मण्डप में माता की झांकी
नवरात्री
2
दशहरा – १०

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी, तृतीयं चन्द्रघंटेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्, पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च, सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्, नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः || आप सभी को विजयादशमी  की शुभकामनायें || आप सभी को टीम phusro.in की तरफ से दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें, माँ आप सबकी मनोकामनाओं को पूरा करें. आज …

सिद्धिदात्री
नवरात्री
सिद्धिदात्री – ९

: : सिद्धिदात्री : : -: माता के सप्तम रूप के उपासना का मन्त्र :- सिद्धगन्धर्वयक्षाघैरसुरैरमरैरपि, सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी. माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं.  ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं.  नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है.  इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान …

महागौरी
नवरात्री
महागौरी – ८

: : महागौरी : : -: माता के अष्टम रूप के उपासना का मन्त्र :- श्वेत वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बर धरा शुचि:, महागौरी शुभं दद्यान्महादेव प्रमोददा. माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है.  दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है.  इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है.  इनकी उपासना …