नाटक

नाटक : भाग – २

दृश्य-दूसरा (नवल और प्रकाश आपस में बातचीत करते आ रहे हैं) नवल – प्रकाश! हमलोग चार हैं. मैं, तुम विमल और कमल. हमलोगों ने एक साथ विद्याध्ययन किये. सम्प्रति हमलोगों की हालत बिलकुल दयनीय है. पारिवारिक दिक्कतें जल प्रवाह कि भांति हमलोगों की ओर बढती आ रही हैं. हमलोगों के …

नाटक
1

नाटक [ दृश्य – ०१ ]

नाटक [ दृश्य-०१ ] पर्दा उठता है. मकान विमल का (फूस का घर है, घर कि दीवारें चिकनी मिट्टी से पुती हैं. सर्वत्र स्वच्छता है. गन्दगी का कहीं नामो निशान नहीं. इसी घर में विमल एक दूसरी चटाई पर बैठा कुछ सोच रहा है. तभी कमल का प्रवेश कर रहा …