सोच की आजादी

हमारा सम्पूर्ण जीवन हमारे विचारों के द्वारा नियंत्रित होता है | हमारे जैसे विचार होते हैं , हमारी जैसी सोच होती है ; हमारी

Read more

गम न करें – १७

बे-मौके सब शरीफ मतलब यह नहीं कि यह सीधे तौर पर आपके बारे में हैं. मतलब यह है कि यह उन सभी के बारे

Read more

गम न करें – १६

दुनिया में आगर आप मोहताज या गमगीन हों या मर्ज लाहक हो जाए या आपका कोई हक मार ले या कोई जुल्म आप पर

Read more

चिन्तन – ०३

सुप्रभात, आज का दिन मंगलमय हो एवं उमंग, सार्थक चिंतन, हर्षोल्लास में व्यतीत हो। देश की आजादी सही मायने में तभी चरितार्थ हो सकती

Read more

गम न करें – १५

कुछ लोग होते हैं, जिनके जेहन में, बिस्तर पर लेटे हुए आलमी जंग (world war) होती रहती है. इन्हें सुगर व ब्लड प्रेशर जैसी

Read more

गम न करें – १४

दायें बाएं देखिये हर तरफ मुसीबत जदा दिखाई देंगे. हर घर में हंगामा बरपा है. हर रुखसार पर आंसू है. हर वादी में मातम

Read more

चिन्तन – ०१

शुभ प्रभात, आज का दिन मंगलमय हो एवं उमंग, सार्थक चिंतन, आत्मोत्थान की ओर अग्रसर एवं हर्षोल्लास मे व्यतीत हो। आज का विषय :

Read more

गम न करें – १३

नरमी जिस चीज में होगी, उसे जीनत देगी. जिस चीज से निकाल ली जायगी, उसमे ऐब पैदा होगा. बातचीत में नरमी, चेहरे पर मुस्कूराहट,

Read more

गम न करें – १२

ऐ! इन्सान, भूख के बाद शिकमशेरी (पेट भर खाना) है, प्यास के बाद शैराबी है, जागने के बाद नींद है, बीमारी के बाद सेहत

Read more

गम न करें – ११

तुम्हें दुनिया में जो तकलीफ पहुँचती है, वो तुम्हारे पैदाईश से पहले ही एक रिकॉर्ड में दर्ज कर ली गयी है. कलम सोख चुका

Read more

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /home2/phusroin/public_html/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /home2/phusroin/public_html/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426