अछूत – ०३

इसके पहले की कहानी पढ़ें: नजर में असर होता है. नजर टेढ़ी हो, तो उसके अलग और सीधी हो, तो अलग मायने निकल आते

Read more

अछूत – ०२

इससे पहले की कहानी पढ़ें यह कितना आश्चर्य भरा है कि गंदगी तो सभी पैदा करनेवाले होते हैं, पर कुछ ही होते हैं, जो

Read more

अछूत – ०१

गाँव के कुछ लोग रमेश के पिता के बारे में जानने के इच्छुक रहते थे, उन्हें पता था कि जब से वे गाँव के

Read more

पुनर्जन्म

श्रीधर सरकारी सेवा में रहते हुए भी भ्रष्ट सरकारी सेवकों के कुप्रभावों से अपने को दूर रखकर बड़ी ही ईमानदारी एवं सत्यनिष्ठा के साथ

Read more

बंटवारा

विजय मैंट्रिक की परीक्षा पास कर अपने गांव के बगल वाले शहर से सटे कॉलेज में दाखिला लेना उचित समझा। कारण यह था कि

Read more

बूटपालिश

एक गरीब लड़का था। चौदह साल की उम्र होते-होते उसके ऊपर मां-बाप का स्नेहिल साया उठ चुका था। अब वह और उसकी छोटी बहन

Read more