विष्णुगढ़ में हुआ कवि सम्मेलन : राकेश नाजुक हुए सम्मानित

उत्सव : मांडू विधायक जयप्रकाश भाई पटेल जी का जन्मदिन का अवसर
*********
विष्णुगढ़ के प्लस टू इंटर कॉलेज में कवियत्री और समाजसेविका श्रीमती अनिता महतो जी के द्वारा काव्यवर्षा नाम से कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया ! ये काव्यवर्षा मांडू के विधायक श्री जयप्रकाश भाई पटेल जी के जन्मदिवस के शुभ अवसर पर किया गया ! आयोजन में बच्चों की चित्रकला प्रतियोगिता ,मूक नाटक, नृत्य प्रतियोगिता के साथ साथ कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया !

आयोजन समिति के सदस्यों ने विधायक जी का स्वागत बुके देकर और माला पहनाकर किया ! इस शुभअवसर पर रामगढ़ जिला के उभरते गीतकार राकेश नाजुक ने अपने गीतों से दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित कर लिया,,राकेश के गीत ख्वाब है प्रीत है गीत संगीत है को लोग साथ साथ पढ़ रहे थे ! राकेश नाजुक ने विधायक जी की माँ के सम्मान में एक मुक्तक * माँ की आंखों में जब भी उतरता हूँ मैं ,,खौफ से एक पल भी न डरता हूँ मैं * पढ़कर सबका मन जीत लिया ,,कार्यक्रम का समापन विधायक जी के हाथों केक काटकर हुआ ! साथ ही सभी कवियों के साथ साथ राकेश नाजुक जी को विधायक जी ने मोमेंटो और उपहार देकर सम्मानित किया !

बाहर से आए कवियों में अनन्त महेंद्र,अजय धुनि,रेणु मिश्रा,अशोक गुप्ता ,पुष्कर राज,अनंत ज्ञान, नितेश सागर,रविन्द्र रवि ने भी अपनी रचनाओ से शमा बांधा,सभी ने अनिता महतो जी के द्वारा उठाए गए इस कदम की खूब प्रंशसा की !

भ्रष्टाचार को ख़त्म करने के लिए किस अवसर की तलाश है आपको?

छाया : बेरमो आवाज

मकोली स्थित उत्क्रमित विद्यालय के पास बी.आर.सी. भवन से रविवार की सुबह एंटी करप्शन ब्यूरो की धनबाद टीम ने बेरमो प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी महेन्द्र सिंह (फाइल फोटो) को 40 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर अपने साथ धनबाद ले गई। एसीबी की टीम ने यह कार्रवाई मनबहादुर थापा नामक एक ठेकेदार के शिकायत पर की है। अब तक प्राप्त जानकारी के अनुसार बिल पास करने के एवज में बीईईओ सिंह ने ठेकेदार थापा से डेढ़ लाख रुपए की मांग की थी। पर थापा ने 40 हजार फ़िलहाल देने की बात कही और जिसकी शिकायत थापा ने एसीबी धनबाद की टीम से किया। जिसके बाद एसीबी की टीम रविवार की सुबह मकोली पहुंची, इधर पूर्व निर्धारित समय पर रकम लेकर ठेकेदार थापा भी पहुंचे और जैसे ही  मकोली स्थित बीआरसी भवन में उक्त राशि  बीईईओ महेन्द्र सिंह को दिया, वहीं सादे लिबास में पहले से बैठे एसीबी की टीम ने धर दबोचा। गिरफ्तार महेन्द्र सिंह बेरमो (वन) के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी हैं तथा इसके पहले नावाडीह में पदस्थापित थे.

कहा जाता है कि दान जितना गुप्त होता है दानी को उतना ही पुण्य प्राप्त होता है और दान जो दिखावे के साथ होता है वह आडम्बर होता है. अब तर्क यह है कि गुप्त दान करने वाले यदि फल की इच्छा और पुण्य मात्र की प्राप्ति से उत्साहित हो कर दान करते हैं तो वह भी लालसा की श्रेणी में आ जाता है और निष्फल हो जाता है. सार यह है कि दान भी एक कर्म है जिस प्रकार आप अन्य कर्मो का साधन करते हैं. यह एक प्रक्रिया है जो आपके सामाजिक उत्तरदायित्व को एक स्थान प्रदान करती है समाज में.

कर्म को प्रधानता उसके नैतिक व आदर्श मूल्य के स्तर पर दिया  जाना चाहिए और इच्छा से व्युत्पन्न अवसाद से स्वयं को दूर रखना चाहिए. इच्छा का होना महत्वपूर्ण न होकर कैसी इच्छा है यह अधिक विचारनीय होना चाहिए. इच्छा कर्म को प्रेरित करती है, सत्कर्म आपके व्यक्तित्व का निर्माण करती है. अवसर आपकी निष्ठा की परीक्षा लेती है, यह नहीं कि अवसर मिला तो आप ईमानदारी का बिगुल बजा रहे और अवसर मिला तो अपना उल्लू भी सीधा करने से नहीं चूके.

यूँ तो अवसर की तलाश सबों को होती है, परन्तु यह कि अवसर प्राप्त होने पर उसको उपयुक्तता के साथ प्रयुक्त भी कर सकें, क्षमता किन्ही विशिष्ट आत्माओं में ही होती है. अवसर का होना किसी विशेष कर्म के निष्पादन के लिए उपयुक्त है अथवा नहीं यह पूर्ण रूप से उसके एकाधिक लाभुकों के संख्या बल से निर्धारित होना चाहिए न कि अपनी क्षमता का अनुचित लाभ लेकर स्वहित साधन कर अनैतिक रूप से प्रयुक्त किया जाये.

आप अफसर थे, आपके स्वयं को सौंपे गए कार्य के प्रति उत्तदायी बना कर पदस्थापित किया गया. उसके बदले में सरकार वह हर लाभ दे रही है जिसके आप पदानुकुल अधिकारी थे. आपने गलत को सही करने के लिए पैसे लेने शुरू किये तो सही लोगों को लगा आप गलत कर रहे हैं. जब आपने सही लोगों को भी पैसे देने के लिए विवश किया तो एक बार फिर उनको लगा कि आप गलत कर रहे हैं. जब कभी शायद आपको विवश किया गया हो गलत करने के लिए तो आप नहीं रुके और न ही रोका अपितु आप अवसर का लाभ प्राप्त करते चले गए. अब ऐसे में यह दिन देखने के लिए तैयार होंगे आप शायद, परन्तु इस घटना से एक बात तो स्पष्ट है कि लोग अब विरोध तो करेंगे.

इन सब बातों से एक और बात निकलती है कि क्या कभी आपने उनकी बातों का मान न रखा हो, और उन्होंने कसम उठा ली हो कि आपको सही जगह पहुंचा देंगे. या फिर वास्तव में वे आपसे और आपके रवैये से त्रस्त हो गए होंगे और आप अपने ही कर्म के जाल में फंस गए. जो भी हो इतना तो पक्का है कि उच्चाधिकारियों ने आपको पकड़ा है, वैसे लोगों ने जिन्होंने शपथ ली है ऐसे ही कर्मो को रोकने की तो आप अपनी शपथ क्यों भूल गए थे, जो आपके संस्थान ने आपको दिलाई हुई थी.

अथ यू.पी.-बिहार उपचुनाव कथा भाषा टीका

मैं घोषित राष्ट्रवादी हूँ। और भाजपा मेरी आशाओं के केंद्र में है जिसका फिलहाल मेरे पास कोई विकल्प उपलब्ध नही है। समान नागरिक संहिता, धारा 370 का निर्मूलन, राम मंदिर निर्माण, हिंदुत्व के पक्ष में खड़े होने का दमखम, छद्म पंथनिरपेक्षता के नाटक से दूरी, लम्बी अवधि की राष्ट्रहित की योजनाओं पर चिंतन और उनका कार्यान्वयन, सुरक्षित सीमाएं, देश के दुश्मनों को मुँहतोड़ जवाब एवं जबरन देश में घुस आये घुसपैठियों की वापसी का प्रयास आदि आदि कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिन्हें देर-सबेर भाजपा द्वारा ही अंजाम तक पहुंचाना मुमकिन है। शेष से तो उम्मीद करना ही व्यर्थ है।

अतः गोरखपुर में भाजपा की हार से आहत तो हूँ परन्तु विक्षिप्त नही हूँ कि संगठन को अनाप-शनाप बकूँ। यहाँ जातिवादिता ने हिंदुओं को दो फांड़ में बांट दिया है। अन्यथा शेष सब यथावत है। नेतृत्व अवश्य मंथन कर रहा होगा। मुझे उन पर विश्वास है। अपनी आप जानें। मेरा उत्साह और धैर्य यथावत है।उस पर रत्ती भर भी फ़र्क़ नही पड़ा है। 2019 के बड़े युद्ध सेे पहले सम्भवतः यह झटका भी जरूरी ही था। हम फिर लड़ेंगे और जीतेंगे।

एक बात और पढिये, बोलिये और गुनिये भी, एक मशहूर किस्सा है। एक बार किसी राज्य के राजा ने एक भिखारिन से शादी कर ली। राजा भिखारिन से अत्यंत प्रेम करता था। उसने उसके लिए दासियों की फौज खड़ी कर दी। खाने के लिए रोज 56 पकवान परोसे जाने लगे। सोने के लिए शाही बिछौना लगाया गया। गद्देदार पलँग। हर सुख सुविधा।

लेकिन कुछ दिनों में रानी साहिबा बीमार पड़ने लगी। शरीर से दुबली होने लगी। धीरे धीरे रानी साहिबा ऐसी बीमार पड़ी की बिस्तर पकड़ लिया। राजा ने चिंतित होकर एक से बढ़कर एक वैद्य बुलाए, लेकिन रानी की तबियत ठीक न हो सकी। थक हारकर राजा ने एलान कर दिया जो रानी को ठीक करेगा, उसे मुँह मांगा पुरुस्कार दिया जाएगा। एलान सुनते ही एक बूढ़ा राजा के पास इलाज हेतु पहुंचा। पूरी बात सुनने के बाद बूढ़े ने कहा- महाराज रानी साहिबा का शाही बिछौना हटाकर जमीन पर चटाई लगाई जाए। दासियों को तुरन्त हटा दिया जाए। रानी साहिबा को बासी और बचा खुचा खाना दिया जाए। 7 दिनों बाद में फिर आऊँगा। राजा को बूढ़े की बात सुन बड़ा अचरज़ हुआ। किंतु वैसा ही किआ गया।  7 दिनों के अंदर ही रानी साहिबा टनटनाट होकर , पूर्ण स्वस्थ्य हो गई।

मित्रो फूलपुर, गोरखपुर में भी यही हुआ। योगी ने ताबड़तोड़ काम शुरु किए। भृष्टाचार कम कर दिया। बोर्ड परीक्षा की नकल रोक दी। 80 % सड़को के गड्ढे भर दिए। 14 सालो बाद मोहर्रम बिना हिंसा के बना। होली बिना डर के साये में धूमधाम से मनी। दिवाली पर पहली बार अयोध्या जगमगाया। जंगलराज से मुक्ति मिली। अपराधी बिलो में छुप गए। कैराना में हिन्दू वापसी हुई। योगी जी ने सिर्फ 1 साल में बहुत कुछ दे दिया।बस यही योगी जी आपने गलती कर दी। जिस जनता को 14 साल से भृष्टाचार की आदत पड़ी हो। बच्चों को नकल से पास कराकर भविष्य बनाने की आदत हो। सड़क के गड्डो पर उछलने की आदत लगी हो। जिन्हें मोहर्रम पर हिंसा में अपने घर जलवाने, दुकान तुड़वाने में चैन मिलता हो। डर के साए में दुर्गा विसर्जन, होली की आदत हो। दिवाली पर 14 सालो से सूनी अयोध्या देखने की आदत पड़ी हो। और सबसे बढ़कर योगी जी जिन लोगो को जातियों में बंटकर खुद का, धर्म का, देश का बंटाधार करने की चुल पड़ गई हो। वे लोग तो आपके कामो के बाद बीमार पड़ेंगे ही। नतीजा वोट डालने घरों से ही न निकले। और जो निकले वो अपनी ही बर्बादी की बटन दबा आए। अतः योगी जी राजनीति का लंबा अनुभव होने के नाते, आपसे हाथ जोड़कर निवेदन है, ये राजनीति है। धीरे धीरे बदलाव लाइये। यहां हिन्दुओ को एकदम से ‘घी’ हजम नही होता। उड़ेल दिया फूलपुर, गोरखपुर में। बाकी हम राष्ट्रवादी हमेशा की तरह आपके साथ है।

बाटुल जी के विधायक मद से मिला एम्बुलेंस

दिनांक 10 मार्च 2018 को अग्रसेन भवन फुसरो में आयोजित एम्बुलेंस उदघाटन समारोह हुआ। बेरमो विधायक श्री योगेश्वर महतो बाटुल जी द्वारा विधायक मद से मारवाड़ी युवा मंच बेरमो शाखा को 1 सुसज्जित वातानुकूलित एम्बुलेंस प्रदान किया गया। जिसका उद्धघाटन नारियल फोड़ कर पंडित संतोष दीक्षित जी द्वारा पूजा अर्चना करवा कर माननीय विधायक जी किये।

मारवाड़ी युवा मंच के कार्यकर्ताओं के समाजसेवा भाव और कार्यशैली से प्रभावित होकर विधायक जी ने यह निर्णय लिया और मंच के आग्रह पर समाज के हित को ध्यान में रखते हुए आज एम्बुलेंस प्रदान करते हुए इसकी चाबी सौंपी. इससे लोगों को आपात काल में और मरीजों को द्रुत गति से तत्काल सेवा व स्वास्थ लाभ प्राप्त हो सकेगा. मंच के लोगों ने यह विश्वास दिलाया कि इस वाहन का सदैव समुचित प्रयोग ही किया जायगा.

जिसमे मुख्य रूप से मारवाड़ी युवा  मंच के अध्यक्ष भवानी शंकर अग्रवाल सचिव पंकज मित्तल कोषाध्यक्ष रोहित मित्तल, सहित दिलीप गोयल, ओम अग्रवाल, मीनू खेतान, अरुण अग्रवाल, राहुल गोयल, मीनू अग्रवाल, शंकर अग्रवाल, दिलीप खेतान सहित समाज के दामोदर अग्रवाल, आनंद गोयल, अशोक राठी, प्रेम राज गोयल, दीपक अग्रवाल, विजय अग्रवाल, सुनील अग्रवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष जगरनाथ राम, प्रखंड अध्यक्ष भाई प्रमोद, ओ.बी.सी. मोर्चा के विनोद महतो, मधुसूदन सिंह, विधायक प्रतिनिधि धनेश्वर महतो, जितेंद्र सिंह सहित कई गणमान्य लोग सम्मिलित थे।

भावपूर्ण श्रद्धांजली : नवल किशोर मित्तल

भावपूर्ण श्रद्धांजली, नवल किशोर मित्तल (07.03.1957-09.03.2018)

फुसरो के एक प्रतिष्ठित व्यवसायी श्री नवल किशोर अग्रवाल जी अब हम सभी के बीच नहीं रहे। 9 मार्च कि शाम 4 बजे उनके सबसे बड़े पुत्र विकास कुमार अग्रवाल ने दामोदर घाट के निकट मुखाग्नि दे कर उन्हें पंच तत्व मे विलीन किया। सभी वर्ग के लोगों के लिए अचानक यह खबर दुखद रहा। बेहद अफसोस होता है जब एक नेक इंसान हमें अचानक छोड़ के चला जाता है, नवल जी, एक सुलझे हुए व्यापारी ही नहीं बल्कि नेक दिल इंसान भी थे।

उन्होंने अपने जीवन काल में बहुत लोगों को मदद दी, हमेशा उन्होंने लोगों को अच्छा परामर्श दिया, हर वक्त उनकी यह सोच थी कि सही राह एवं सही व्यक्ति की पहचान आप को कभी हारने नहीं देगी, और यह सोच उन्हें हमेशा मजबूत बनाये रखी। वे बचपन से आखिरी सांस तक बस कर्म पर भरोसा किये ओर लोगों को प्रेरित किये। 61 वर्षीय इस व्यक्तित्व का इमानदारी एक उसुल था।

फुसरो ई-पत्रीका ऐसे नेक दिल इंसान को श्रद्धांजलि देता है और यह कामना करता है कि उनके परिवार को हिम्मत मिले। इस दुःख की घड़ी मे उनकी पत्नी का साहस समाज की समस्त महिला एवं उनके छोटे पुत्र अंकित ने बढाया। मौके पर मौजूद दिलीप मित्तल, मनोज मित्तल, विजय मित्तल, सुनिल मित्तल, श्यामसुंदर अग्रवाल, रामअवतार अग्रवाल, छितर बंसल, विनय रूंगटा, अजय गोयल, मदन अग्रवाल, नेमिचंद अग्रवाल, पंकज मित्तल, कृष्णा चांडक, पवन अग्रवाल, नविन गोयल, मारवाड़ी युवा मंच के सभी सदस्य, राधेश्याम अग्रवाल, प्रेम बाबु, मिंटू सिंह, राजेन्द्र झा, शंभू वर्णवाल, अभय विश्वकर्मा, महारुर्द सिंह, अशोक पटवारी, जगदीश पटवारी, एवं सैकड़ों लोगों ने कांधा दे कर अंतिम विदाई दी।

मारवाड़ी युवा मंच को मिला एम्बुलेंस

उद्घाटन समारोह 

माननीय बेरमो विधायक श्री योगेश्वर महतो ‘बाटूल’ के विधायक मद से मारवाड़ी युवा मंच बेरमो शाखा को वातानुकूलित एम्बुलेंस वाहन दिनांक 10 मार्च 2018 को प्रदान किया जाने वाला है.

समारोह उक्त तिथि को दिन में 11 बजे से अग्रसेन भवन, फुसरो में आयोजित किया जाना तय हुआ है.

अतः इस उद्घाटन समारोह में आप सभी समाज बंधुओं की उपस्थिति अपेक्षित है.

निवेदक
मारवाड़ी युवा मंच
बेरमो शाखा

25 फरवरी को होगा आजसू फुसरो नगर कार्यकर्ता सम्मेलन

आजसू पार्टी फुसरो नगर व बेरमो प्रखंड समिति की बैठक फुसरो स्थित प्रधान कार्यालय में हुई जिसकी अध्यक्षता नगर अध्यक्ष विनोद बाउरी ने तथा संचालन प्रखंड सचिव सुरेश महतो ने किया। बैठक में सर्व सम्मति से यह निर्णय लिया गया की आगामी 25 फरवरी 2018 को आजसू पार्टी फुसरो नगर व बेरमो प्रखंड के कार्यकर्ता मिलान समारोह सह मिलन कार्यक्रम फुसरो में किया जाएगा।
केंद्रीय मुख्यालय सचिव कमलेश महतो ने कहा कि संगठन को मजबूत करने की आवश्यकता है, और आजसू पार्टी हमेशा जनता की समस्याओ को लेकर आंदोलन करते आ रही है, और आगे भी करेगी। भविष्य में आंदोलन को और धारदार बनाने हेतु फुसरो नगर के सभी वार्डो में बैठक कर संगठन को मजबूत करने की आवश्यकता है।
उन्होंने आगे कहा कि आजसू पार्टी का जनाधार पूरे झारखंड में बढ़ रहा है। यहां युवाओ और महिलाआ को पार्टी में जोड़ने पर बल दिया गया। इस अवसर पर महेंद्र चैधरी, मंजूर अंसारी, बिनोद महतो, प्रमोद कुमार, मनोज पांडेय, संतोष महतो , अनिल झा, बीरू हाड़ी, आदि उपस्थित थे।
 छाया / सूत्र : बेरमो आवाज

डी.ए.वी. ढोरी में मनाई गयी महात्मा एन. डी. ग्रोवर की पुण्य तिथि

डी. ए. वी. पब्लिक स्कूल, ढोरी में मंगलवार को महात्मा एन. डी. ग्रोवर की पुण्य तिथि मनायी गयी। उक्त अवसर पर वैदिक हवन का आयोजन किया गया। तत्पश्चात स्व. ग्रोवर साहब की तस्वीर पर विद्यालय के प्राचार्य, शिक्षक- शिक्षिकाओं तथा छात्र प्रतिनिधियों ने पुष्पांजलि अर्पित की। डा. आर. सी. झा ने उनके व्यक्तित्व एवं सुकृत्यों पर विस्तार पूर्वक प्रकाश डालते हुए बताया कि उन्होंने झारखण्ड सहित 8 राज्यों में लगभग 200 विद्यालयों की स्थापना की।

शिक्षा का अलख जगाने के साथ-साथ आर्यसमाज का विस्तार, प्रचार व प्रसार भी किया। वे गरीबों के मसीहा के रूप में जाने जाते हैं। प्रचार्य श्री एस. कुमार ने बताया कि आर्य समाज की प्रखर विभूति, स्वतंत्रता सेनानी, रसायन शास्त्र के प्रकांड ज्ञाता, तथा जीवट प्रतिभा, कर्मठ व अनुशासित व्यक्तित्व के स्वामी थे स्व. ग्रोवर। 15 नवंबर, 1923 में इशाखेल (पाकिस्तान) पंजाब प्रांत में जन्मे ग्रोवर साहब ने 1957 से आर्य समाज को अपनी सेवाएँ दी। वे हिसार व पंजाब में डी. ए. वी. पब्लिक स्कूल के प्राचार्य रहे। तदन्तर राँची, पटना जोन के क्षेत्रीय निदेशक तथा डी. ए. वी. काॅलेज मैनेजिंग कमिटी के उपाध्यक्ष बने।

उन्होंने अपनी पूरी जिन्दगी समाज के शोषित दलित और उपेक्षित वर्ग की सेवा में लगा दी। ऐसे महामानव ने असंख्य विद्यालय खोलकर समाज में शिक्षा के क्षेत्र में क्रान्तिकारी परिवर्तन लाने का कार्य किया। अंततः उन्होंने 6 फरवरी 2008 को अंतिम साँस लेकर इस मायावी संसार से विदा हो गये। उनके पद्चिह्नों पर चलना हम सबके लिये एक प्रेरणा स्त्रोत है। कार्यक्रम की उद्घोषणा श्री अशोक पाल ने किया। कार्यक्रम की सफलता में श्री एस. के. शर्मा, श्री राकेश कुमार, सुश्री श्वेता, श्री पंकज यादव तथा श्रीमती मौसमी गुप्ता का सराहनीय योगदान रहा।

छाया / सूत्र : बेरमो आवाज

कांग्रेस पार्टी का झंडा लगाओ अभियान

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के निर्देशानुसार फुसरो नगर परिषद् क्षेत्र, वार्ड नंबर 25, 26 (फुसरो डॉ कस्तुरी मुखर्जी अस्पताल मुहल्ला, बेरमो प्रखण्ड रोड़ मुहल्ला, फुसरो मेन रोड बंगाली मुहल्ला,अवध सिनेमा रोड) में कांग्रेस जनों के आवासों व दुकानों पर कांग्रेस पार्टी का झंडा लगाने का कार्यक्रम किया गया।

प्रभारी सच्चिन्द सिंह के द्वारा संचालित किया गया था।कांग्रेस के वरीय नेता महारुद्र नारायण सिंह ने कहा कि कार्यकत्ता ही पार्टी के रीढ़ है, कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के प्रति विश्वास बढ़ रहा है कहा कि कार्यकत्ता ही पार्टी के रीढ़ है, उनके बदौलत ही चुनाव जीता जा सकता है।

मौके पर बेरमो प्रखण्ड अध्यक्ष प्रमोद कुमार सिंह, उत्तम सिंह, परवेज अख्तर, आबिद हुसैन, छेदी नोनिया, जसिम रजा, कृष्ण कुमार चाण्डक, केदार सिंह, रामवली चैहान, ब्रिजेश सिंह, बृजमोहन, शम्भु यादव, मनोज शर्मा, मो.नसीम, बिनोद चैरासिया, शंकर पासवान, दीपक कुमार सिंह,रामाशीष महतो, अखिलेश सिंह, गोपाल गुप्ता, मो. साकिर हुसैन, सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

सूत्र / छाया : बेरमो आवाज

फुसरो ओवरब्रिज पर हो सकता था बड़ा हादसा, पलटा ट्रक

राकेश मिश्रा की स्पेशल रिपोर्ट :

बीते देर रात निर्मल महतो चौक से होते हुए डुमरी की ओर जाने के क्रम के 2mm टी.एम.टी. से लदा एक अशोक लीलैंड ट्रक (नंबर RJ-19-GF-2087) जैसे ही ओवरब्रिज पर चढ़ा और चढ़ते ही मुड़ा, वह पलट गया और सरिया के कुछ छल्ले हाई मास्ट लाइट के पास जा गिरे, ट्रक तो लटक गया पर नीचे भीड़ नहीं थी इसलिए बस एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया.

समाचार लिखे जाने तक दामोदर नदी हिंदुस्तान पुल से लेकर पूरे नया रोड और उधर ओवरब्रिज पार चपरी तक भयंकर जाम की स्थिति बनी है प्रशासन की मुस्तैदी बनी है और एम्बुलेंस को रास्ता दिया जा रहा है. क्रेन की सहायता से एक-एक कर सरिया के छल्लों को नीचे किया जा रहा है, ट्रक को हटाने की कवायद जारी है, पर ट्राफिक खुलने कुछ वक्त लग सकता है.

हो सकता था बड़ा हादसा. फुसरो का यह इलाका काफी भीड़-भाड़ वाला होता है, प्रायः ही यहाँ से बड़ी-बड़ी गाड़ियाँ और भारी वाहनों का आवागमन बदस्तूर जारी रहता है, ऐसे में कभी भी इस प्रकार का हादसा हो सकता है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है. चढ़ाई पर तेजी से बिना अपना पिकअप खोये चढ़ने के क्रम में और तेजी में मुड़ने के कारण हुआ यह हादसा.

शुरू से ही इस ओवरब्रिज की इंजीनियरिंग को लेकर सवाल उठते रहे हैं, कि इसकी ड्रापिंग सही नहीं है. पर हमारे कंस्ट्रक्शन करने वाली कंपनी को इससे क्या मतलब जैसे-तैसे मार्च तक कोटा पूरा करना था इसलिए आनन फानन में ओवरब्रिज पूरा कर डाला. भीड़-भाड़ होने से बड़ी गाड़ियों की रफ्तार काम ही रहती है तो अब तक आसानी से काम चलता आया. पर इन दिनों इस मार्ग पर आवाजाही बढ़ी है. यह सड़क N.H.-2 G.T. Road से जुड़ी रहने के कारण इस पर अवागमन बहुत ही ज्यादा है.