संपादकीय

मन दुखी है!

आजकल के बच्चों को यह क्या होता जा रहा है कि पहले तो वो अपने स्कूल की जहाँ कि वो पढ़े हैं कभी या अभी भी पढ़ रहे हैं उनके पूर्व या वर्तमान में जो शिक्षक हैं उनके व्यंगात्मक फोटो व टिप्पणियों को खुलेआम धरल्ले से पोस्ट कर रहे हैं …

संपादकीय
2

हैप्पी बर्थ डे, डियर – हिंदी

यूं तो हिंदी भाषा का जन्म कब हुआ यह कोई नहीं बता सकता, फिर प्रश्न यह भी है कि फिर हम यह दिवस क्यों मानते हैं? तो इसके पीछे का तर्क यही दिया जा सकता है की इन दिवसों से हम किसी भी सम्बंधित चीज का इतिहास जान पाते हैं …

Happy Teacher Day
संपादकीय

हाँ, मैं एक शिक्षक हूँ!

सबसे पहले उस दिव्य आत्मा को नमन करता हूँ जिनकी आज जन्म तिथि है, हमारे देश के भूतपूर्व राष्ट्रपति, राजनीतीज्ञ एवं दार्शनिक डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन को. आज के ही दिन 1962 में जब वे राष्ट्रपति बने और पद का कार्यभार ग्रहण किया तो लोगो में विशेष तौर पर विद्यार्थियों ने …

संपादकीय
2

बस हम ही नहीं बदले

सर्वप्रथम हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि, यह जो लेख यहाँ से नीचे तक जो भी लिखा है उसका किसी जाति अथवा धर्म से बिना किसी पूर्वाग्रह के/से प्रेरित हुए लिखा जा रहा है, यद्यपि किसी धर्म विशेष की धार्मिक भावना आहत होती हो तो हमें क्षमा करेंगे. …

संपादकीय

प्रस्तावना

हम फुसरो के लोग, फुसरो को एक स्वच्छ, ईमानदार, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, नगर बनाने के लिए तथा उसके समस्त नगरवासियों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता  एवं विकास प्राप्त करने के लिए तथा उन सबमें व्यक्ति की गरिमा …

संपादकीय

प्रिय बंधुवर

सादर नमस्कार, सर्वप्रथम आपका हमारे, (हम सबके) अपने एकमात्र क्षेत्रिय वेबसाइट पर सहृदय स्वागत है. यहाँ क्षेत्रिय से सीधा तात्पर्य भाषा, धर्म, जाति, संस्कृति, इतिहास, दर्शन, शिक्षा, चिकित्सा, राजनीतिक, आर्थिक एवं सामाजिक वातावरण में जो बदलाव हो रहा तथा जिन बदलावों का हिस्सा हम दिनोंदिन बनते जा रहे हैँ उनसे …