फुसरो के बारे में : भाग-1

फुसरो,
वर्तमान में झारखण्ड राज्य (पूर्व में बिहार राज्य) के उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल में बोकारो  जिला (1 अप्रैल 1991 से, पूर्व में हजारीबाग तत्पश्चात गिरिडीह जिला) के बेरमो अनुमंडल, प्रखंड सह अंचल एवं थाना के अंतर्गत एक छोटा किन्तु तीव्र गति से विकासशील शहर है. बेरमो विधानसभा (वर्तमान विधायक श्री योगेश्वर महतो ‘बाटुल’ जी) एवं गिरिडीह लोकसभा (वर्तमान सांसद श्री रविन्द्र कुमार पाण्डेय जी) क्षेत्र के अंतर्गत आने वाला फुसरो राजनितिक रूप से भी अत्यंत सक्रीय है, पर फिर भी कई विडम्बनाओं से ग्रसित यह क्षेत्र अपनी सहनशीलता, भाईचारे एवं सौहार्द्रपूर्ण व्यवहार के लिए अपने आप में आसपास के क्षेत्रों के लिए एक मिसाल है.

यह अपने जिला मुख्यालय बोकारो से 35 कि.मी. पश्चिम में अवस्थित है तथा अपनी राजधानी राँची से 120 कि.मी. उत्तर-पश्चिम में स्थित है, यहाँ के डाक-घर (कम्प्यूटरीकृत) फुसरो बाज़ार का पिन कोड 829144 तथा भारत संचार निगम लिमिटेड, बेरमो के अंतर्गत इसका टेलीफोनिक एस.टी.डी. कोड 06549 है तथा फुसरो रेलवे स्टेशन का कोड (PUS) है. बोकारो जिला के अंतर्गत आने से यहाँ की जिन गाड़ियों का पंजीकरण होता है जिला शहर से होता हैं उनका ट्रांसपोर्ट व्हीकल रजिस्ट्रेशन कोड JH09 से शुरू होता है.

वर्ष मार्च 2008 में फुसरो नगर परिषद् के गठन के बाद से शहर में नगरीय प्रणाली के अनुपालन का प्रयास हो रहा है, हालाँकि इसकी गति सरकारी व्यवस्था के कारण कुछ धीमी ही है, परन्तु धैर्य के साथ फुसरो की जनता का साथ प्राप्त हो रहा है, जिससे यह एक बेहतर एवं स्वच्छ नगरीय वातावरण की दिशा में लगातार अग्रसर होता ही जा रहा है. फुसरो नगर परिषद् में बेरमो प्रखंड के छः पंचायत से फुसरो, ढोरी, करगली, अमलो, मकोली व कारो को लेकर वर्तमान में कुल 28 वार्ड बने हैं. जिसके बाद से ही अधिसूचित क्षेत्र समिति फुसरो के स्थान पर नगर परिषद फुसरो कहलाने लगा.

जनसांख्यिकी
वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार फुसरो नगर परिषद् के अंतर्गत आने वाली कुल आबादी  करीब 89,178 है जिसमे से करीब 46,605 आबादी पुरुषों की तथा स्त्रियों की आबादी करीब 42,573 है, तथा जिनमे अनुसूचित जाति की आबादी  करीब 13,635 एवं अनुसूचित जनजाति की आबादी करीब 5,109 है. शिक्षित व्यक्तियों की कुल जनसख्या में हिस्सेदारी करीब 61,000 है जिनमे से करीब 35,000 पुरुष एवं करीब 26,000 महिलाएं शामिल हैं.

भौगोलिक स्थिति
फुसरो, लगभग 45.22 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में फैला है तथा अक्षांश 23.77 डिग्री उत्तर तथा देशांतर 85.99 डिग्री पूर्व में स्थित है. भारतीय मानक समय (नैनी, इलाहाबाद +5:30 मिनट पूर्व) की समय सारणी में इसकी स्थिति +14 मिनट (पूर्व) है. इसके अधिकतर इलाके कोल इंडिया द्वारा वर्तमान व भावी कोयला खदानों को ध्यान में रखते हुए अधिसूचित किये गए हैं. कोयला खदानों में होने वाले बारूदी धमाको से घरों की खिड़कियाँ थर्रा उठती हैं तथा घरों की दीवारों में दरार आना यहाँ आम बात होती है.

परिसीमा
उत्तर की ओर यह राजमार्ग संख्या-2 (डुमरी) को जोड़ने वाले राज्यमार्ग से जुड़ा है जिसके किनारे मुख्य रूप से चपरी, मकोली, नवाडीह आदि जैसे इलाकों की बसावट है.
दक्षिण की ओर यह दामोदर नदी के किनारे बसे जरीडीह बाजार, बालू बंकर, अंगवाली, ढोरी बस्ती, मधुकनारी, राजाबेड़ा आदि जैसे इलाकों से घिरा है.
पूर्व में यह दामोदर नदी पर निर्मित हिंदुस्तान पुल, जिस पर से होकर  फुसरो-जैनामोर मुख्य मार्ग गुजरती है, से जुड़ा है, जिसके किनारे नया रोड बसा है, जो की फुसरो का सबसे सघन क्षेत्र माना जाता है.
पश्चिम में यह जारंगडीह – कथारा – बी.टी.पी.एस. (बोकारो थर्मल पॉवर स्टेशन) – स्वांग – गोमिया व तेनुघाट जाने वाली मुख्य मार्ग से जुड़ा है.
उत्तरपूर्व में यह चंद्रपुरा को जाने वाली सड़क से जुड़ा है जिसके किनारे राजेंद्र नगर, सिंह नगर, फुसरो स्टेशन, शांति नगर, खास ढोरी, शारदा कॉलोनी, कल्याणी व सबसे छोर पर भंडारीदह बसा है.
दक्षिण-पूर्व में दामोदर नदी के पूर्वी किनारे पर एक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होने के लिए बहुप्रतीक्षित “हथिया पत्थर” नामक स्थान से जुड़ा है.
दक्षिण-पश्चिम में यह दामोदर के किनारे बसे जरीडीह बाज़ार से जुड़ा है जिसके उत्तर में जारंगडीह रेलवे स्टेशन है.
उत्तर-पश्चिम में कुरपनिया से सटे गांधीनगर से लेकर सुभास नगर, बेरमो सीम, 4 व 5 नंबर धौरा, अमलो बस्ती आदि जैसे इलाकों की बसावट है.