निःशुल्क साइंस एवं मैथ क्लासेज के बच्चों ने जैक बोर्ड में लहराया परचम

अर्चना सिंह द्वारा चलाए जा रहे निशुल्क साइंस मैथ क्लासेज मैं दसवीं के जैक बोर्ड के बच्चों ने अपना परचम लहराया निशुल्क शिक्षण कार्यक्रम को सफल बनाने में सबसे बड़ा योगदान श्री उपेंद्र पांडे जी का रहा जिन्होंने आज के इस व्यवसायीकरण के दौर में निशुल्क शिक्षा देकर समाज के गरीब तबके के लोगों के लिए एक बहुत बड़ा काम किया है इस संबंध में श्री उपेंद्र पांडे जी का कहना है कि प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती बशर्ते उचित मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहन मिले.

math science class मे मुख्य रूप से सोनू कुमार ने क्रमशः मैथ में 95% साइंस में 73 प्रतिशत अमित ने मैथ में 88 प्रतिशत साइंस में 59 प्रतिशत आरती ने मैथ में 55% साइंस में 59 प्रतिशत नंबर लाया यह सभी विद्यार्थी बहुत कमजोर तबके से आते हैं.

उनके अभिभावकों ने श्री उपेंद्र पांडे जी के प्रति अपना आभार जताया इस कार्यक्रम को चलाने में अब तक श्री योगेश तिवारी श्री अरुणेश और श्री सुजीत ठाकुर का बहुत सराहनीय योगदान रहा इन सभी ने विशेष रूप से श्री उपेंद्र पांडे जी को धन्यवाद दिया और कहा कि यह कार्यक्रम आगे भी इसी तरह जारी रहना चाहिए

विष्णुगढ़ में हुआ कवि सम्मेलन : राकेश नाजुक हुए सम्मानित

उत्सव : मांडू विधायक जयप्रकाश भाई पटेल जी का जन्मदिन का अवसर
*********
विष्णुगढ़ के प्लस टू इंटर कॉलेज में कवियत्री और समाजसेविका श्रीमती अनिता महतो जी के द्वारा काव्यवर्षा नाम से कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया ! ये काव्यवर्षा मांडू के विधायक श्री जयप्रकाश भाई पटेल जी के जन्मदिवस के शुभ अवसर पर किया गया ! आयोजन में बच्चों की चित्रकला प्रतियोगिता ,मूक नाटक, नृत्य प्रतियोगिता के साथ साथ कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया !

आयोजन समिति के सदस्यों ने विधायक जी का स्वागत बुके देकर और माला पहनाकर किया ! इस शुभअवसर पर रामगढ़ जिला के उभरते गीतकार राकेश नाजुक ने अपने गीतों से दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित कर लिया,,राकेश के गीत ख्वाब है प्रीत है गीत संगीत है को लोग साथ साथ पढ़ रहे थे ! राकेश नाजुक ने विधायक जी की माँ के सम्मान में एक मुक्तक * माँ की आंखों में जब भी उतरता हूँ मैं ,,खौफ से एक पल भी न डरता हूँ मैं * पढ़कर सबका मन जीत लिया ,,कार्यक्रम का समापन विधायक जी के हाथों केक काटकर हुआ ! साथ ही सभी कवियों के साथ साथ राकेश नाजुक जी को विधायक जी ने मोमेंटो और उपहार देकर सम्मानित किया !

बाहर से आए कवियों में अनन्त महेंद्र,अजय धुनि,रेणु मिश्रा,अशोक गुप्ता ,पुष्कर राज,अनंत ज्ञान, नितेश सागर,रविन्द्र रवि ने भी अपनी रचनाओ से शमा बांधा,सभी ने अनिता महतो जी के द्वारा उठाए गए इस कदम की खूब प्रंशसा की !